Please reload

Recent Posts

सीमा प्रहरियों के स्नेह के आगे...हारा कोरोना, सिस्टर ऑफ़ बीएसऍफ़ हर साल की तरह इस बार भी पहुंची बॉर्डर पर

August 3, 2020

1/10
Please reload

Featured Posts

अभिनव भारत (Innovative India) के संकल्प को साकार करने के लिए छोड़ी एप्पल की नौकरी और छोड़ी अमेरिका की ऐशोआराम भरी ज़िन्दगी, अभिनव दम्पति बने किसान, साथ ही शुरू की गुरुकुल परम्परा

April 20, 2019

इस अभिनव पहल के लिए अभिनव गोस्वामी और उनकी पत्नी प्रतिभा गोस्वामी शामिल हुए देश की बेहतरीन तीस प्रतिभाओं में (बदलाव के श्रेष्ठ तीस महारथी), उत्तर-प्रदेश के अलीगढ़ में जरारा गाँव के रहने वाले इस दम्पति  को  मिलेगा  देश  का  प्रतिष्ठित राष्ट्रीय पुरुष्कार "इंडिया30 अवार्ड"

 #अभिनव_भारत

यानी सीमा पर सन्नद्ध भारत , विद्यालयों में चाणक्य की भूमिका में भारत , ध्रुव, प्रह्लाद के संस्कारों से सिंचित भारत , गौ माताओं के दुग्ध से पुष्पित पल्लवित होता भारत , जिनके हाथ में नेतृत्व है उनके त्याग से प्रभावित होता भारत। और जिनके पास संतानों को बड़ा करने का उत्तरदायित्व है उनका अपनी संतानो के सामने बड़े आदर्श प्रस्तुत करने वाला भारत। स्वस्थ, मुस्कुराता भारत।

कैसे होगा ? कैसे किया जाएगा , कौन सा सपना था ? वो सपना था

"लोक सभा बासंती चोला पहन के जिस दिन आएगी,

गली गली मेरे भारत की वृन्दावन बन जाएगी।

ये वो भाव "अपने पर स्वाभिमान, अपने पर गौरव, अपनी परंपराओं के गीत गुनगुनाता भारत.....

जरूर पूरा होगा यह सपना, हम सब जी जान से राष्ट्रपथ पर चलते रहे, चलते रहे। ......वो दिन दूर नहीं। ...होगा अवस्य होगा। ...... हम सबका एक भारत श्रेष्ठ भारत।

आज हमारे देश में कौशल पर आधारित शिक्षा पर जोर-शोर से बहस चलती है। लोग 'गुरुकुल शिक्षा ' के कॉन्सेप्ट के बारे में बात करते हैं। पूरी दुनिया को गुरुकुल का कॉन्सेप्ट यानी कि बच्चों को जीवन यापन करने की सभी मूलभूत स्किल सिखाते हुए शिक्षित करना, ताकि वे आगे जाकर आत्मनिर्भर बनें और खुद अपने लिए रोज़गार के साधन इजाद करें, भारत ने ही दिया है।
लेकिन आज हम खुद इस कॉन्सेप्ट को भूलते जा रहे हैं। हमारे देश की शिक्षा-प्रणाली में 'लाइफ सपोर्टिंग स्किल्' पर कोई जोर नहीं दिया जाता है। हालांकि, आज बहुत से लोग हैं, जो स्किल बेस्ड शिक्षा की ज़रूरत को समझ कर, इस दिशा में काम कर रहे हैं।
अपने देश के भावी भविष्य के प्रति आज के युवाओं की चिंता और फ़िक्र यक़ीनन एक सतत बदलाव की पहल है। बदलाव के इन सारथियों में एक श्रेष्ठ दम्पति का  नाम शामिल होता है और वे है उत्तर-प्रदेश के अभिनव गोस्वामी और उनकी पत्नी प्रतिभा गोस्वामी  का। भारत को एक बेहतर कल देने और अभिनव (Innovative) भारत के संकल्प को साकार करने की छटपटाहट और जुनून उन्हें परदेस से भी वापिस खींच लाया। 
उत्तर-प्रदेश के अलीगढ़ में जरारा गाँव के रहने वाले अभिनव गोस्वामी, साल 2007 से अमेरिका में रह रहे थे। एक शिक्षक परिवार में जन्मे अभिनव ने अपनी बारहवीं तक की पढ़ाई गाँव से ही की और फिर आगे की पढ़ाई के लिए वे अलीगढ़ मुस्लिम यूनिवर्सिटी चले गये।
यहाँ से स्टेटिस्टिक्स में ग्रेजुएशन और पोस्ट-ग्रेजुएशन करने के बाद, उन्होंने कुछ समय तक एक कंपनी में नौकरी की और फिर दिल्ली यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री ली। फिर बंगलुरु, हैदराबाद और गुरुग्राम जैसी जगहों पर काम करने के बाद, साल 2007 में उन्हें अमेरिका जाने का मौका मिला।
वहां की आईक्योर कंपनी ने उन्हें न सिर्फ़ परिवार सहित अमेरिका बुलाया, बल्कि ग्रीन कार्ड भी दिलवाया। यहीं पर रहते हुए, अभिनव को साल 2011 में एप्पल कंपनी के साथ काम करने का मौका मिला। यहाँ वे  'डाटा साइंटिस्ट'  के पद पर कार्यरत थे।

 


इनका कहना है-
"गाँव में इतने अभावों में पढ़ने-लिखने के बाद भी  माता-पिता और शिक्षकों के मार्गदर्शन से हम आराम से अपनी ज़िंदगी जी रहे थे। बहुत बार मन में ख्याल भी आता था कि जिस मिट्टी ने हमें यहाँ तक पहुँचाया, उस मिट्टी के लिए हम कुछ नहीं कर पा रहे हैं। "
आगे उन्होंने कहा कि उन्हें अमेरिका की शिक्षा-प्रणाली ने बहुत प्रभावित किया। कभी-कभी उन्हें आश्चर्य भी होता था कि वहां की प्रारंभिक शिक्षा कहीं न कहीं भारत के 'गुरुकुल कॉन्सेप्ट'  पर आधारित है। बच्चों को शुरू से ही स्किल बेस्ड शिक्षा दी जाती है। दैनिक जीवन से जुड़ी हर छोटी-बड़ी स्किल उन्हें सिखाई जाती है, ताकि वे कहीं भी रहें लेकिन अपना निर्वाह कर पाए।
"मैं जब भी वहां के बच्चों का कौशल और क्षमता देखता, तो लगता था कि यह सब हमारे देश में भी होना चाहिए। बच्चों की परवरिश इस तरह से हो कि उन्हें विज्ञान और तकनीक के साथ-साथ कला और मानव-जीवन से सम्बंधित विषयों को भी जानने-समझने का मौका मिले। लेकिन ये करेगा कौन, अब अगर कुछ अलग करने का ख्याल खुद को आया है, तो खुद ही कुछ करना पड़ेगा"
जब भी अभिनव इस संदर्भ में बात करते, तो वे सोचते कि रिटायरमेंट के बाद वे अपना जीवन इस काम के लिए समर्पित कर देंगे। पर फिर डेढ़ साल तक खुद से ही इस विचार पर संघर्ष करने के बाद, अभिनव ने अपने देश लौटने का फ़ैसला किया।
उनके इस फ़ैसले का न सिर्फ़ उनके जानने वाले, बल्कि उनके परिवार ने भी विरोध किया। क्योंकि कोई भी इतनी मेहनत और संघर्ष से बनाई एशो-आराम की ज़िंदगी को छोड़कर, एक और संघर्ष करने के लिए क्यूँ लौटता।  लेकिन उनकी पत्नी प्रतिभा कंधे से कंधा मिला साथ कड़ी हुई, उन्होंने मिलकर वैदिक ट्री नाम से संस्थान खड़ा किया।
साल 2017 में अभिनव अपने परिवार के साथ अपने पैतृक गाँव लौट आये। उनके उद्देश्य को समझते हुए उनके छोटे भाई और चचेरे भाइयों ने भी उनका साथ दिया। यहाँ आकर उन्होंने धीरे-धीरे अपने सपने के लिए काम करना शुरू किया। फ़िलहाल, गुरुकुल का निर्माण-कार्य जारी है और अभिनव का कहना है कि अगले साल तक यह पूरी तरह से शुरू हो जायेगा।

 

गुरुकुल के लिए क्या है अभिनव की अभिनव योजना?

" हमारा  उद्देश्य बच्चों को सिर्फ़ किताबी शिक्षा नहीं, बल्कि कौशल से परिपूर्ण शिक्षा देना है। हम चाहते हैं कि बचपन से ही बच्चों को आत्म-निर्भर बनाया जाये। अगर कक्षा में वे कृषि के बारे में पढ़ें, तो साथ ही खेतों में जाकर किसानी भी सीखें। ऐसे ही, अगर उन्हें तारामंडल, गृह विज्ञान आदि के बारे में पढ़ाया जा रहा है, तो उन्हें इसका प्रैक्टिकल भी करने को मिले"

उन्होंने आगे कहा कि फ़िलहाल वे 200 बच्चों के हिसाब से अपना इंफ्रास्ट्रक्चर तैयार कर रहे हैं। इन 200 बच्चों को अलग-अलग बैच में पढ़ाया जायेगा। दिन में 3-4 घंटे उनकी सामान्य शिक्षा होगी और फिर 4-5 घंटे उन्हें अलग-अलग स्किल्स में प्रशिक्षण दिया जायेगा।

"खाना पकाना, डेयरी फार्म के अलग-अलग काम, जैविक खेती, कंप्यूटर स्किल्स, म्यूजिक, थिएटर, पेंटिंग आदि जैसे 36 अलग-अलग तरह के क्षेत्रों से उन्हें रूबरू करवाया जायेगा। हर एक बैच को हर एक स्किल करने के लिए 3-3 महीने का समय मिलेगा"

इसके बाद, ये बच्चे जिस भी क्षेत्र में आगे बढ़ना चाहें, वह उनका निर्णय होगा। अभिनव दम्पति  का उद्देश्य इन बच्चों को सिर्फ़ कहीं नौकरी आदि करने के लिए तैयार करना नहीं है, बल्कि वे चाहते हैं कि इन बच्चों में से ऐसे उद्यमी निकलें, जो कि आगे चलकर देश में रोज़गार के अवसर उत्पन्न करें और देश की अर्थव्यवस्था में भी अपना योगदान दें।

अभिनव दम्पति बच्चों को वैश्विक स्तर की तकनीकी शिक्षा देने के साथ-साथ, यह भी चाहते हैं कि आने वाली पीढ़ी अपनी जड़ों से जुड़ी रहे। वे देश के विकास और उत्थान के लिए तत्पर हों और यह सोच बच्चों के व्यवहार में झलके। साथ ही, बच्चों को सिर्फ़ चारदीवारी तक ही सिमित न रखा जाये, इसके लिए उन्होंने खेतों पर ही अपने प्रोजेक्ट को शुरू किया है।

गुरुकुल के लिए उनका प्लान, एक स्कूल बिल्डिंग, बच्चों के लिए हॉस्टल, पार्क (जहाँ पेड़ों के नीचे छात्रों के बैठकर विचार-विमर्श आदि करने की जगह बनाई जाएगी), गेस्ट रूम, कंप्यूटर के अलावा विज्ञान संबंधित लैब, म्यूजिक थिएटर, लाइब्रेरी व एस्ट्रोनॉमी की प्रैक्टिकल कक्षाओं के लिए भी ख़ास जगह तैयार करवाना है।

गुरुकुल के साथ शुरू किया जैविक खेती और डेयरी फार्म का अभियान भी

इस प्रोजेक्ट के लिए उन्होंने अभी तक किसी निजी संस्था, संगठन या फिर सरकार से कोई फंडिंग नहीं ली है। बल्कि, अभी तक वे खुद ही सब कुछ संभाल रहे हैं। अपने इस प्रोजेक्ट के साथ-साथ, आय के साधन के लिए उन्होंने डेयरी फार्म और प्राकृतिक खेती शुरू की है।

शिक्षा में बदलाव के साथ ही, अभिनव  दम्पति  कृषि के क्षेत्र में भी आगे बढ़ रहे हैं। लगभग 25 एकड़ ज़मीन पर वे सफलतापूर्वक खेती कर रहे हैं।

"फल-सब्ज़ी, एलोवेरा उगाने के अलावा, मैं पारम्परिक फसलें जैसे कि गेंहूँ, चावल, बाजरा, मक्का, सरसों आदि भी उगाता हूँ। हमारी सब्ज़ियाँ अब ग्राहकों तक भी जाने लगी हैं। अलीगढ़ और आस-पास के बहुत से क्षेत्रों से लोग सब्ज़ियाँ खरीदने आते हैं"

 

खेती के लिए वे पूर्ण रूप से प्राकृतिक तरीकों का इस्तेमाल कर रहे हैं। लगभग 50 देसी गाय खरीदकर उन्होंने गौशाला स्थापित की और फिर उन्होंने अपने खेतों में ही बायो-गैस प्लांट, डेयरी फार्म, सोलर प्लांट आदि लगवाया। गोबर, गोमूत्र, किचन से निकलने वाले कचरे आदि से वे बायो-गैस और जैविक खाद बना रहे हैं।

इसी जैविक खाद का इस्तेमाल वे अपने खेतों में करते हैं और साथ ही, गाँव के अन्य किसानों की भी मदद कर रहे हैं। गाँव के आस-पास के सभी कस्बों और शहरों में उनकी डेयरी भी काफ़ी प्रसिद्द हो गयी है। इस सबके अलावा, अब उन्होंने मधु-मक्खी पालन भी शुरू किया है, ताकि प्राकृतिक शहद बाज़ारों में उपलब्ध करवा पाएं।

"धीरे-धीरे हम गाँव के लोगों के लिए रोज़गार जुटाने में भी कामयाब हो रहे हैं। अब गाँववालों को भी मेरी सोच समझ में आ रही है और वे मुझसे जुड़ रहे हैं। मैं चाहता हूँ कि हम सब मिलकर गाँव को इतना स्वाबलंबी बना दें, कि लोगों को शहरों की तरफ पलायन न करना पड़े"

 

अपनी इस नेक पहल को अभिनव दम्पति  ने 'वेदिक ट्री प्लांट'  का नाम दिया है। हर रोज़ अलग-अलग जगहों से लोग उनके काम और प्रोजेक्ट को देखने के लिए जाते हैं। अभिनव कहते हैं कि उन्हें उनके कार्यों में स्थानीय लोगों और प्रशासन का भी काफ़ी सहयोग मिला है।

जल्द ही, अभिनव का गुरुकुल का सपना भी सच होगा और वे सिर्फ़ अपने गाँव में ही गुरुकुल खोलकर रुकना नहीं चाहते हैं। उनका संकल्प पूरी दुनिया में इस तरह के 108 गुरुकुल खोलना है। इसके लिए उन्हें अपने देश और देशवासियों के साथ की ज़रूरत है। उनका कहना है कि ऐसे लोग, जो हर तरह से परिपूर्ण और समृद्ध हैं, वे इस काम में आगे आकर उनकी मदद कर सकते हैं।

 

फ़िलहाल, वे किसानों के लिए एक अतिरिक्त आय का अवसर साझा करना चाहते हैं। अपने जैविक खाद के निर्माण के लिए उन्हें नीम के पेड़ पर लगने वाली निबौलियों की आवश्यकता है।

"अक्सर सभी गांवों और खेतों में आपको नीम के पेड़ मिलेंगें। नीम एक तरह से प्राकृतिक पेस्टिसाइड है और इसलिए मैं चाहता हूँ कि अपनी जैविक खाद के निर्माण में इसका इस्तेमाल किया जाये। मैं सभी किसानों से अनुरोध करना चाहूँगा कि गर्मी के मौसम में नीम पर जो निबौलियाँ लगती हैं, उन्हें व्यर्थ न जाने दें। बल्कि इकट्ठा करके हम तक पहुंचाए और हम इसके बदले में उन्हें पैसे दे देंगें"

इस अभिनव दम्पति को इंडिया30 सीरीज के उन श्रेष्ठ 30 नायकों में शामिल कर युवा संसद, भारत एवं वॉइस ऑफ़ भारत स्वयं को गौरवान्वित महसूस करती हैं।

 

 

Share on Facebook
Share on Twitter
Please reload

Follow Us

I'm busy working on my blog posts. Watch this space!

Please reload

Search By Tags
Please reload

Archive
  • Facebook Basic Square
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square
ABOUT US

वॉइस ऑफ़ भारत, हमारी कोशिश है आपको भारत की वो तस्वीर दिखाने की, जिसे अनगिनत, अंजाने नागरिक उम्मीद के रंगों से संवार रहे हैं. 

ADDRESS

56, Gayatri Nagar, Palroad, JODHPUR-342008 Bharat

SUBSCRIBE FOR EMAILS
  • Grey Facebook Icon
  • Grey Google+ Icon
  • Grey Instagram Icon

© 2019-20 Voice of Bharat