• Team Voice of Bharat

सीमा प्रहरियों के स्नेह के आगे...हारा कोरोना, सिस्टर ऑफ़ बीएसऍफ़ हर साल की तरह इस बार भी पहुंची बॉर्डर

रक्षाबंधन विशेष: सरहद की बेटी, सरहद पर

(फोटो: गंगानगर सेक्टर के नग्गी गाँव के नजदीक स्थिति भारत-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात बी.एस.एफ. जवान को राखी बांधती सिस्टर ऑफ़ बी.एस.एफ. पार्वती जांगिड़ सुथार)

------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------------

पार्वती,एक तेजस्वी युवा, उम्र 23 साल ! सीमावर्ती गागरिया गाँव की लाडली और जोधपुर की धरा पर युवा गौरव......और सारे भारत का गर्व पार्वती जांगिड़ उन हजारों..लाखों जवानों की बहन हैं जो सिस्टर आफ बीएसएफ से सुविख्यात है... किसी का बेटा.......किसी का भाई...किसी का पति...तो किसी का पिता.......घर से दूर उस कमी को महसूस ना कर सकें...इसलिए पार्वती जांगिड़ बहना कोरोना जैसी महामारी की परवाह ना करते हुए, बल्कि कोरोना महामारी को हराने का हर जतन करते हुए..........कई किलोमीटर बार्डर पर तैनात हमारे जवानों को रक्षासूत्र बांधने पहुंच जाती है! यहां हम यह लिखते हुए गर्व महसूस कर रहे हैं...और बधाई देना चाहते है समस्त मातृ शक्ति को....और हमारे पूरे भारत वर्ष को कि पार्वती जांगिड़ सुथार भारत की एकमात्र वो बेटी है...जो हर साल बॉर्डर पर जाकर फौजी भाइयों के राखी बांधकर आती है..............और वो भी एक दो दिन नहीं पूरा सप्ताह-सप्ताह !

गंगानगर/नई दिल्ली:

चिलचिलाती धूप ! अंतरराष्ट्रीय बॉर्डर फेन्सिंग के इस और कुछ जवान कंधे पर बंदूक थामे...बड़ी मुस्तैदी से इधर-उधर आ..जा रहे हैं ! पसीने से तरबतर...लेकिन एक डैम चौंकने...बार्डर के उस पार टकटकी लगाए...सीना ताने जवान....अपने परिवार से दूर...हम सबकी रक्षा में तैनात खड़े हैं....तभी एक जवान दूसरे से-अरे नीरज सिंह आज तो रक्षाबंधन है शायद! हां...राखी है..(अपनी आंख से निकले आंसू पोंछते हुए) अजयवीर ने जवाब दिया...! दोनों यही सोचकर भावुक...पर कुछ देर बाद फिर से तेज कदमों से बार्डर पर इधर-उधर पहरे में व्यस्त हो गए ! थोड़ी देर बाद क्या देखते हैं...कि दूर से कोई लड़की हाथ में थाली लिए...बी एस ऍफ़ कुछ के जवानों के साथ उनकी ओर आ रही है...! आंख मसलकर फिर से देखने की कोशिश करते हैं...! विश्वास नहीं हो पा रहा है कि यहां कोई कैसे...कोरोना जैसी महामारी के चलते यहां आ सकता है! उनके पास आते ही सीमा सुरक्षा बल के एक अधिकारी...ये पार्वती जांगिड़ सुथार बहना है...बड़ी दूर से जोधपुर से...हम सभी जवानों को राखी बांधने आए हैं...! सुनते ही कमाण्डर सुरेंद्र बोला अरे इस बहना को कौन नहीं जानता, यही तो है हमारी अपनी बहन, सिस्टर ऑफ़ बी.एस.ऍफ़., सिस्टर ऑफ़ सोल्जर, यादें ताज़ा कर बॉर्डर पर तैनात दोनों फौजियों की आंखें नम हो जाती है...और उस बहन को सेल्यूट कर राखी बंधवाने अपने हाथ आगे करते हैं...और इसी दृश्य को देखकर स्वयं इंद्रदेव बादलों से ना बरसकर उस फौजी की आंख से बरस पड़ते हैं....! ऐसा दृश्य...जिसे देखकर शायद ही कोई हो जिसकी आंखें खुशी से नम ना हो...!

सम्मानीय पाठकों....ये हैं..पार्वती जांगिड़ सुथार...भारत की पहली बेटी...जो बॉर्डर पर तैनात फौजी भाईयों..और सीमा प्रहरियों के जवानों को कई सैंकड़ों किलोमीटर दूर से इस धूप में..कोरोना जैसी महामारी को मात देकर राखी बांधने बॉर्डर पर है.....हमारे जवानों को हौंसला बढाने....!

सिर्फ राखी के एक दिन नहीं, सप्ताह भर सैंकड़ों किलोमीटर बॉर्डर को कवर करती है, माँ भारती की सुरक्षा में गस्त कर रहे जवानों की सूनी कलाइयों में राखी के रंग भरती है, पार्वती बचपन से बॉर्डर पर रक्षाबंधन का पर्व मनाती आ रही है, विशेष लास्ट 6 सालों से 7 से 10 दिनों तक इसे भारत रक्षा पर्व के रूप में मना रही

पार्वती युवा संसद,भारत की चेयरपर्सन के साथ ग्लोबल गुडविल एम्बेसडर भी है...दर्जनों राष्ट्रीय व अंतरराष्ट्रीय पुरस्कारों से अलंकृत है सामाजिक कार्यकर्ता पार्वती जांगिड़ सुथार, गायत्रीनगर जोधपुर के स्वर्गीय लूणाराम सुथार एवं संजू सुथार की सुपुत्री है...

रक्षाबन्धन की विशिष्टता भाई और बहन के पावन सम्बन्धों को उजागर करने में निहित है। भाई का कर्तव्य बहन के मान और सम्मान की रक्षा करना है। और बहन का कर्तव्य है भाई के चेहरे पर मुस्कान। इसी मुस्कान की कमी हमारे फौजी भाइयों को न हो,इसके लिए समर्पित है पार्वती।

रक्षाबंधन-2020 के पवित्र मौके पर पार्वती जोधपुर से 500 किलोमीटर दूर पहुंची गंगानगर सेक्टर के बॉर्डर पर, कई दिनों से यह पवित्र पर्व 156,91,125 की बटालियन व बॉर्डर पोस्ट पर तैनात जवानो की सुनी कलाईयों में राखी के रंग भर रही है और हर बी..ओ.पी. व बटालियंस पर पोधारोपन भी कर रही है। पार्वती ने करीब डेढ़ सौ किलोमीटर का बॉर्डर कवर किया। गंगानगर पहुँचने पर कमांडेट परमवीर सिंह,कमांडेट देवेंद्र सिंह, डी सी जितेंद्र नागल ने पार्वती का स्वागत किया। और सीमा सुरक्षा बल गंगानगर सेक्टर की तरफ से पार्वती को बी.एस.ऍफ़. का स्मृति चिन्ह देकर सम्मानित किया गया।

इस अवसर पर पार्वती ने अपने सन्देश में कहा की मुझे विश्वास है की मैं पैरामिलिट्री फोर्सेज की आवाज हमेशा बनूँगी और पैरामिलिट्री के लिए ओ.जी.ए.एस., एन.एफ.एफ.यु., एन.एफ.एस.जी. व ओल्ड पेंसन स्कीम लागू हो, यह मेरी प्राथमिकता है। पार्वती ने केंद्र सरकार से आग्रह करते हुए कहा की जिस देश में छोटा सा दल चंद व्यक्तियों के दम पर सड़क जाम करके अपनी बात मनवा लेते हैं वहां दस लाख के केन्द्रीय बलों को अपनी पहचान बनाने के लिए तरसना पड़ रहा है। यदि बलों की लड़ाकू क्षमता और इन्हें नैराश्य में डूबने से बचाना है तो नौकरशाहों पर लगाम लगाकर माननीय सुप्रीम कोर्ट का निर्णय लागू करके बलों को ओ.जी.ए.एस., एन.एफ.एफ.यु. के अलावा एन.एफ.एस.जी. व ओल्ड पेंसन स्कीम का लाभ तत्काल दिया जाए।

!! भारत रक्षा पर्व-2020 का शुभ-समापन by Parvati !! @10-08-2020 Gadara Forward BOP, BMR SHQ

---------------------------------------------

पिछम पूगी पारवती, राखी ले नै हाथ।

बांध सूर रै हाथ में, टीकौ दियो माथ।।

हरखै हिंदी सूरमा, देख पारवती बैन।

पुणचौ सजियौ भ्रात रौ, चित नै आयौ चैन।।

शब्द न्यौछावर: भंवरलाल सुथार, Jodhpur

---------------------------------------------

ज़िम्मेदारियों के बंधन की रक्षा...

---------------------------------------------

मन समर्पित, तन समर्पित

और यह जीवन समर्पित

चाहती हूँ देश की धरती,

तुझे कुछ और भी दूँ

---------------------------------------------

नमस्कार,

हर वर्ष की भांति भाई बहन का पवित्र पर्व रक्षाबंधन-जिसे मैं भारत रक्षा पर्व के रूप में मनाती हूँ, इस बार 1 अगस्त,2020 से श्री गंगानगर सेक्टर पर शुरू किया और आज 10 अगस्त,2020 को पश्चिमी कमांड (गडरा,बाड़मेर) व आस पास के बॉर्डर पर शुभ समापन किया। गंगानगर की सारी बटालियन्स 156,91,125 व बॉर्डर पर गस्त कर रहे सीमा प्रहरियों की कलाई पर राखी बांधी।

श्री गंगानगर को लगती भारत - पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा को पूरा कवर करने के साथ आज बाड़मेर जिले को लगती अंतरराष्ट्रीय सीमा पर तैनात सीमा प्रहरी भाइयों के रक्षासूत्र बांध उनके स्वस्थ सुखद मंगलमय जीवन की प्रभु प्रार्थना की। इस यात्रा के दौरान सीमा प्रहरी भाइयों के अलावा इन क्षेत्रों में मौजूद कुछ संस्कृति प्रहरियों की कलाई में भी राखी के रंग भरे, मुकुंदगढ़(झुंझुनूं), मोमासर(बीकानेर), सरदारशहर, बाड़मेर, चौहटन,केलनोर में भी पर्व मनाया।

---------------------------------------------

इस शुभ यात्रा के अवसर पर मैं सम्पूर्ण भारतवर्ष के सभी योद्धाओं के स्वस्थ सुखद मंगलमय जीवन की कामना करती हूँ, जो किसी न किसी रूप से माँ भारती के लिए समर्पित हैं।

सेक्टर डी आई जी सर व सेक्टर के सभी समादेष्टा, कमांडर,इंस्पेक्टर,अधिकारीगणों सहित सभी सीमा प्रहरीयों का आभार प्रकट करती हूँ।

आप सबका यह दिव्य प्यार,मुझे हमेंशा अच्छे कार्यों की प्रेरणा देता है। जय हिन्द।

सादर:- पार्वती जांगिड़ सुथार

चेयरपर्सन: युवा संसद, भारत। ग्लोबल गुडविल एंबेसडर।

इस वर्ष के भारत रक्षा पर्व यात्रा से पहले पार्वती ने गुजरात राजस्थान पंजाब को लगती सीमा पर कई बार सप्ताह-सप्ताह भारत रक्षा पर्व मनाया, 2019 में हिमालय पर तैनात 18000 फिट की ऊंचाई पर भी हिमवीरों का होंसला बढ़ाने पहुंची थी।

पार्वती के इसी जज्बे की प्रशंसा देश के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, भिन्न भिन्न राज्यपालों,मुख्यमंत्रियों सहित दर्जनों सम्माननीय शामिल है।


Featured Posts
Recent Posts
Archive
Search By Tags
Follow Us
  • Facebook Basic Square
  • Twitter Basic Square
  • Google+ Basic Square

वॉइस ऑफ़ भारत, हमारी कोशिश है आपको भारत की वो तस्वीर दिखाने की, जिसे अनगिनत, अंजाने नागरिक उम्मीद के रंगों से संवार रहे हैं. 

SUBSCRIBE FOR EMAILS
  • Twitter
  • Facebook
  • Tooter

© 2021-22 Voice of Bharat